10 important facts about rigveda in hindi

जानिए ,ऋग्वेद के बारे में 10 महत्वपूर्ण बातें

  1. ऋचाओं के क्रमबद्ध ज्ञान के संग्रह को ऋग्वेद कहा जाता है।
  2. ऋग्वेद में 10,462 ऋचाएं हैं।
  3. ऋग्वेद की ऋचाओं को पढ़ने वाले ऋषि को होतृ कहा जाता है।
  4. ऋग्वेद से आर्यों की राजनितिक प्रणाली और इतिहास के बारे में पता लगता है।
  5. प्रसिद्ध गायत्री मंत्र ऋग्वेद की देन है, जो सूर्य देवता सावित्री को समर्पित है और यह विश्वामित्र द्वारा रचित ऋग्वेद्व के तीसरे मंडल में उल्लेखित है।
  6. ऋग्वेद के 9 वें मंडल में देवता सोम का उल्लेख है।
  7. ऋग्वेद के 8 वें मंडल की हस्तलिखित ऋचाओं को खिल कहा जाता है।
  8. वमनावतार के तीन पगों के आख्यान का प्राचीनतम स्त्रोत ऋग्वेद है।
  9. ऋग्वेद में अग्नि के लिए 200 तथा इंद्र के लिए 250  ऋचाओं की रचना की गयी है।
  10.  समाज में चार प्रकार के वर्ण की कल्पना का स्त्रोत ऋग्वेद है, इसके 10 वें मंडल में पुरुषसूक्त के अनुसार चार वर्ण (ब्रह्मण, क्षत्रिय, वैश्य तथा शुद्र) को ब्रह्मा के क्रमश: मुख, भुजाओं,जंघाओं और चरणों से  उत्पन्न  हुआ बताया है।